फ़रवरी 04, 2010

ख्वहिश है

ख़्वाहिश है कि इंसानियत मेरा जूनून हो जाये
फ़िर चाहे इसके हक़ में मेरा खून हो जाये
मेरी आफ़ताब की ख़्वाहिश ग़ैरवाजिब है
जिसके चलते बाक़ी लोग सितारों से महरूम हो जाये
मेरी पुस्तक "ज़र्रे जर्रे में वो है " से

7 टिप्‍पणियां:

Rajani Morwal ने कहा…

achche vichar hai

Manju Khurana ने कहा…

bahut achha..kaash...ye hi khvahish her insaan ki ho..to is dunia se nafrat khtam ho jaaye.....:)

chandan singh bhati ने कहा…

bahoot sunder

rakesh ने कहा…

splendid , superb gr8 words as usual the best, bless u ashaji the gr8

Jugal Malpani ने कहा…

Superb, Humanism or Insanyat hee sabse bad Majhab hai. Bahut sunder aur chamakte shabdon me. Jitnee bar padheyn ,bar bar padhne ka man karta hai. Bhadhai aur shubh kamnayen

meenakshi ने कहा…

thats so beautiful!!

prabhat ने कहा…

simply "wonderful".